:

Thursday, October 8, 2009

" हँसना मना है | "

संता अपने शादी का सरटीफीकैट लेकर बैठे बैठे कुछ ढूंढ़ रहा था अचानक वो गुस्सा हो गया ......

संता : " ये ग़लत कर रही है सरकार ..."

बँटा : क्या ग़लत कर रही है ?

संता : यार कब से ढूंढ़ रहा हु , हर चीज़ में एक्सपिएरी डेट होती ,मगर इस में नही है ... "

कुछ आया समज में ...अगर आया हो तो इसे अपने दोस्तों को सुनाओ और हँसते रहो ...

2 comments:

Udan Tashtari said...

बहुत गलत कर रही है सरकार!

Babli said...

वाह वाह बड़ा ही मज़ेदार लगा! मैंने शायरी और कविता पोस्ट किया है! वक्त मिलने से आइयेगा ! आपकी टिपण्णी का इंतज़ार रहेगा!

Post a Comment