:

Friday, October 23, 2009

" दो पल "---- एक रचना

" दो पल "

चिंता मत कर प्यारे कल की ,

सोच बस्स ! आज के इस पल की ,

होती है हार एक दिन सबकी ,

कोई इट नही इतनी पक्की |



युग युग का है तू युगंधर ,

जिन्दगी है दुःख का समंदर ,

जीना तु ये सोचकर ,

बिताना जिन्दगी तु खेलकर |



करता है बदनाम दूसरों को जमाना ,

तु है एक मुसाफिर बेगाना ,

मत खोलना फ़िर कोई मयखाना ,

बस्स ! सोच के ये तराना |



वक्त नही तेरे पास कल ,

यही है बस्स ! दुःख के पल ,

बिताना तु उसको कहके चल ,

फ़िर " तुलसी " तेरे है "दो पल " | "


5 comments:

Suman said...

मत खोलना फ़िर कोई मयखाना ,

बस्स ! सोच के ये तराना |nice

Priya said...

ye sakaratmakta achchi lagi

प्रबल प्रताप सिंह् said...

वक्त नही तेरे पास कल ,

यही है बस्स ! दुःख के पल ,

बिताना तु उसको कहके चल ,

फ़िर " तुलसी " तेरे है "दो पल " | "

psingh said...

मजेदार रचना
बहुत बहुत आभार .....

veerubhai said...

"फिर तुलसी तेरे हैं दो पल "अच्छी धार लिए लिखते हो ...

Post a Comment